मां,पापा और मै(हास्य कविता)😁

मां बोली बेटा अब उठ जा , सूरज कब का है निकला ।। उठ जा बेटा अब बहुत हुआ , क्यों तोड़ रहा खुद के रिकॉर्ड ।। दुनिया देख, आगे बढ़ती जाती , और तू बिस्तर से है अबतक चिपका ।। बस कर अब तू,अंधेर ना कर , रातों में क्यों जगता है तू ।। […]

Read More मां,पापा और मै(हास्य कविता)😁

I loved you

I loved you, and I probably still do, And for a while the feeling may remain… But let my love no longer trouble you, I do not wish to cause you any pain. I loved you; and the hopelessness I knew, The jealousy, the shyness – though in vain – Made up a love so […]

Read More I loved you

बारिश 😀

सुनो पंडिताइन, मुझे पता हैं तुम्हें बारिश बहुत पसंद हैं तो मैँ सोचता हु बारिश हो और तुम भीग जाओ लेकिन जुकाम होने से पहले ,मैं बना दूं अदरक तुलसी वाली चाय ताकि तुम उसे ग्रहण कर सुरक्षित हो जाओ। बाई गॉड की क़सम …. Caution😜 बाते बचकानी है इसीलिए लॉजिक धूड़ने का प्रयास ना […]

Read More बारिश 😀

कैसी कविता लिखूं??

सोचता हूं कैसी कविता लिखूं? कविता जो,शब्दों में उलझी हो , या जो सरल,रास और मीठी हो ।। कविता जो मेरी मां जैसी प्यारी हो , या जो पिता की तरह अनुशासित हो ।। कविता जो काशी की गलियों सी भा जाए , या वोह जिसमें अपना दिल रो जाए ।। कविता जो सफलता की […]

Read More कैसी कविता लिखूं??

Women’s day

To all the women I’ve loved or let down, learnt from or worked with, competed or debated against, won from or been defeated by, befriended or been estranged from: remember… You’re just better. At everything. Believe it. Four women’s who changed my life,helped me reach my goals … And whatever I have achieved it’s because […]

Read More Women’s day

आस…

Originally posted on Jeevan Jyoti:
परिंदे बेवज़ह गगन को चूमा नहीं करते, जुनून कुछ कर गुज़रने का, उन्हें ऊँचा उड़ता है। फ़लसफ़ा है ये जीवन का, इसे दिल से जियो यारों, बिना ख़्वाहिश के जीवन को, कभी सज़दा नहीं करते। दिलों में रौशनी भर कर, एक मीठी आस बाकी रख, जो दिन गुज़रा वो बीता…

Read More आस…

दो तरह के शेर!!

एक शेर जंगल का राजा, खूंखार ,घूमे आवारा ।। जंगल में भय कायम रखे , जीव जन्तु सब कापे उससे ।। है राजा ,पर खुद शिकार पर , कड़ी मशककत ,पर मिलता कुछ ।। हर दिन घंटों ताक लगाए, मुश्किल से कोई हाथ में आए ।। कभी कभी मायूस भी रह जाए, पर जंगल का […]

Read More दो तरह के शेर!!