💕मां ,मेरी मां ,प्यारी मां 💕

घर से हूं दूर मां,
आना चाहता हूं तेरे पास
वक़्त के इस खेल में ,
मजबूर से है हालात ।।

सूनी सी लगती जिन्दगी ,
बिन तुझे देखे ,अब तो ।
कर्तव्यों को पूरा करने में ,
तुझसे दूर सा हो गया हूं ,मैं तो !!

रह रह कर तेरी याद में ,
तेरी फोटो निहारता हूं ।
तेरी आंखों की चमक से,
मै खुद के अंदर रोशनी पाता हूं।।

तेरा दिया हुआ घी का डब्बा ,
रह रह कर खोलता हूं ।
उसकी खुशबू में भी ,
आजकल तुझको ढूंढता हूं ।।

हर चीज अच्छी लगती ,
जिससे तेरी यादें जुड़ी है ।
शायद इसीलिए लिए हफ्तों से ,
ये नीली कमीज़ पहन रखी है ।।

तेरे पास जो था,करता ,
कितने ही नाटक
पर मां, अब खुद ही उठता हूं,
सूर्योदय से भी पहले।।

बचपन ही बढ़िया था ,
तेरी गोद में खेला करता ,
तेरी आंचल में सोया रहता ,
तेरे हाथो को तकिया बनाकर ,
उसमे अपना सिर रखता ।।

पर मां जब से बड़ा हुआ,
परिस्थितियों ने जकड़ा है
तुझसे दूर कर रखा है ।
जल्द खाली पाऊ ,
इन दायित्वों से
और फिर हमेशा के लिए ,
तेरे पास चला आऊ मै…
घर से हूं दूर मां,
आना चाहता हूं तेरे पास ।।।

—Nimish ©

For Meri बुढ़िया MAA💕💕💕

Advertisements

26 Comments Add yours

  1. Ashwini.B says:

    One of the few times a poem is dedicated to a mother rather than a ‘girlfriend’🌸
    That ‘hafton se ye nili kameez pehen rakhi hai’ did made me a chuckle a bit😊
    You are very expressive in emotions👌

    Liked by 2 people

    1. Nimish says:

      💕💕oh THANK YOU so much dost actually I have written almost 7 poems for my mother …
      She reads it all , jab Meri yaad aati unko💓

      Thank you dost once again ….MAA ki baat he kuch aur hai …apne aap emotions nikalte☺️

      Liked by 4 people

      1. Ashwini.B says:

        That’s AWESOME mate! And yes, you absolutely did justice to that poem! Keep writing and keep up the incredible work💕😊

        Liked by 1 person

  2. माँ से बड़ा ना ईस दुनिया मे है ना होगा। ख़ूबसूरत रचना

    Liked by 1 person

    1. Nimish says:

      Thank you so much Bhai ☺️☺️
      जी बिल्कुल मां भगवान की सबसे अच्छी रचना है,या यू कहलीजिए maa ही तो भगवान हैं….☺️

      Liked by 2 people

  3. Vrunda says:

    Aww… This is touching

    Liked by 1 person

    1. Nimish says:

      Thank you so much Vrunda for your kind read …☺️☺️☺️

      Liked by 2 people

    1. Nimish says:

      Thank you so much Bhai☺️☺️🌹

      Liked by 1 person

    1. Nimish says:

      Thank you so much Preeti☺️☺️👍

      Liked by 2 people

  4. Nimish says:

    हा भाई☺️☺️☺️😘👍

    Liked by 1 person

  5. Nimish says:

    आप सभी लोगो के response देख कर बहुत खुशी होती…☺️☺️
    एक लेखक , तारीफ का भूखा होता है….💕🌹
    बहुत बहुत शुक्रिया एवं आभार

    Liked by 1 person

  6. Madhusudan says:

    बहुत ही खूबसूरत कविता।
    हर रिश्तों से ऊपर तूँ नजर आती है,
    ऐ माँ इतना त्याग तूँ कहाँ से लाती है,
    करीब था तो अपना जिद्द नजर आता था,
    दूर होकर तेरा अब प्रीत समझ आता है,
    रिश्तों की भीड़ में ना प्रीत नजर आती है,
    ऐ माँ इतना प्रेम तूँ कहाँ से लाती है।

    Liked by 1 person

    1. Nimish says:

      धन्यवाद सर आपका
      आपने कविता नई जान भर दी…शानदार ।
      रिश्तों की भीड़ में ना प्रीत नजर आती हैं 👌👌👌🔥

      Liked by 1 person

  7. Muntazir says:

    Beautiful is the word

    Liked by 1 person

    1. Nimish says:

      Thank you so much muntazir
      Happy new year ,have a fantastic year ahead 🙂

      Liked by 2 people

      1. Muntazir says:

        My pleasure and thank you

        Liked by 1 person

  8. Well done Nimish 👏👏

    Liked by 1 person

    1. Nimish says:

      Thank you so much mam

      Liked by 1 person

    1. Nimish says:

      Thank you so much mam🙂🙂💕

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s