अनमोल बेटी अनमोल बाबा

कुछ यादें ऐसी होती है की सदा के लिए दिल-दिमाग में समा जाती है ..वैसे कोटा तो मै मेडिकल की तैयारी के लिए गया था ..या यू कह लीजिए मैं तो नासमझी के आकाश में समझ की पतंग उड़ाने सीखने गया था ,पर मेरा लेखक मन वहां अपने ही गुल खिला रहा था…

कोचिंग जाते हुए आस-पास की Slums में एक बच्ची दिखती है रोज , यू ही कोई चार-पांच साल की..”कागज की दफ़्ती” लिए, हवा हाकते हुए अपने बाबा को ..हां कागज़ की दफ़्ती से ..रोज डेढ़ बजे दोपहर ,शायद उसके बाबा का इसी बीच लंच का समय होता होगा ..जो भी हो पर मुझे वह दृश्य उस खिलखिलाती बच्ची और उसके बाबा के बीच देखकर आंनद आ जाता है…बाबा खाना खा रहे और बेटी इतनी गर्मी में हवा का जुगाड़ लगाए है ।। कोचिंग से लौटते वक़्त फिर वो दोनों दिखते है, पर इसबार खेलते हुए ..कोई बड़ा खेल नहीं ..शायद दस रूपए वाला गुब्बारा लेकर खेलते वह और उनके चेहरें की खुशी शब्दों में बयां करना नामुनकिन है यहाँ..

हां वह गरीब,निर्धन हो सकते ….हाँ हो सकता वोह बच्ची कभी स्कूल न जा सके ..किताबो से दूर ही रह जाए, शायद दोनों उसी स्लम में मर भी जाए एक दिन पर वह बच्ची और उसके बाबा एक आदर्श बाप-बेटी का उदाहरण प्रस्तुत करते है …

आज अपने जानने-समझने, आस-पास के लोगो को देखता हूँ तो निराशा होती ..रिश्तों में दूरियां और एकाकीपन बढ़ता जा रहा है।। Parents और बच्चो में दूरिया बढ़ रही..पेरेंट्स फीस और पैसो तक सीमित हो गए है …बच्चे भी सोशल मीडिया पर सच्चा प्यार,शान्ति और आत्मा soul etc etc ढूंढ रहे।।parents के साथ संवाद जरुरी दोस्त ….अपनी जड़ न भूले ..ऊपर के हरे पत्ते पतझड़ में निपट लेंगे …जड़ हमेशा काम आएँगी… 

–Nimish❤

www.hdnicewallpapers.com
http://www.hdnicewallpapers.com

 

Advertisements

54 thoughts on “अनमोल बेटी अनमोल बाबा

  1. घर बड़े होते जा रहे हैं,परिधान महंगे होते जा रहे हैं,सच है चेहरे पर लालिमा बढ़ रही है मगर आज दिल से प्रेम,होठों से मुस्कान और सुकून भरी नींद खोती जा रही है। टूट रहे हैं रिस्ते बिखर रहे सम्बन्ध कुछ बचा है तो वो है घमंड।

    कौन कहता है कि ज्ञान सिर्फ विद्यालय में मिलता है। ज्ञान लेनेवाले धूल में लिपटे इंसान,धरती,अम्बर और श्मशान से भी बिना पढ़े ले लेते हैं। बहुत बढ़िया पोस्ट।

    Liked by 5 people

    1. Waah bahut he badhiya baat kah daali apne
      टूट रहे हैं रिस्ते बिखर रहे सम्बन्ध कुछ बचा है तो वो है घमंड।
      ❤❤❤🙂🙂🙏🙏

      Shukriya dada padhne aur हौसला अफजाई के लिए ❤

      Liked by 2 people

  2. गरीबों के देवता …यारों का यार
    शरारती ,नटखट और नेक इंसान …

    I can see in ur comment box how much ur reader’s love u❤❤

    Keep going ❤❤❤🙂🙂

    Liked by 9 people

  3. Kota ke waakye ka jikr karke bahut hi achha message diya hai. Hame apne parents ki ahmiyat aur makaam ko kabhi nazarandaz nahi karna chahiye aur unki khidmat ke saath garibo aur majloomo ki bhi madad karni chahiye. Iske bina to deen aur imaan bhi adhura hai.
    And your Lord has decreed that you worship none but Him and that you be dutiful to your parents. If one of them or both of them attain old age in your life, say not to them a word of disrespect, nor shout at them but address them in terms of honour.” [Al-Quran 17:23]
    They ask you, [O Muhammad], what they should spend. Say, “Whatever you spend of good is [to be] for parents and relatives and orphans and the needy and the traveler. And whatever you do of good – indeed, Allah is Knowing of it.” [Al-Quran 2:215]
    best wishes!

    Liked by 4 people

  4. क्या लिखते हो यार 👏👏
    कोटा की स्टोरी इतने बढ़िया मैसेज से कनेक्ट कर दी
    Flawless👏👏❤
    बहुत बढ़िया सोच और अभिव्यक्ति ❤
    Keep writing. 360 Nimish

    Liked by 7 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s