शिक्षा का महत्व

20190908_222531अन्तर्मन में ठहरे शून्य ,

शिक्षा बिन जीवन किस मूल्य 

बिन शिक्षा क्या शुभ – क्या लाभ ??

अभ्यंतर में तम का वास ।।

.

अशिक्षित‘ निज हक को न जाने ,

श्रेष्ठ-हीन का भेद न समझे !

तम में जीवन , उलकू* पसरा  *(Owl) 

दूषित सोच,  अन्धविश्वास का बसेरा ।।

.

उर्वरक शिक्षा , फसल रूपी जीवन में  ,

सजग समाज,  श्रेष्ठता के पथ पर  !

सुख समृद्धि , सब शिक्षा की महिमा ,

शिक्षा एक मात्र हल , दूर हर कालिमा  !!

दूर हर कालिमा 

—-Nimish

समय की काफ़ी कमी है …कोशिश रहेगी हफ्ते दो हफ्ते में एकात कविता लिख पाऊँ ☺😀 ❤💜🧡💛

शुक्रिया सभी का  ❤

 

 

 

 

 

Advertisements

66 thoughts on “शिक्षा का महत्व

  1. आत्मबोध रह रह है छलकता
    कहता है कि कुछ बन जाऊं
    मन सुनता लजाता निमिष निमिष कविता की कलवर सुन कर

    Liked by 1 person

  2. Reblogged this on R K Karnani blog and commented:
    Loved this Hindi poem on power and need of education. On a request posted there, tried my hand at translating it into English. Here is the English version. All credit to the original Poet Dr.Nimish:

    Heart of heart is a land so barren
    Worthless without an education
    To know what is auspicious & pure
    Also to know what is worthy for sure  
    Literacy and schooling is the right forum  
    ElseDarkness rules your Sanctum Sanctorum!

    Illiterate and unschooled 
    Are the ones always fooled
    Not knowing what right they have
    Spending life in a darkened cave
    Superior-inferior they cannot decipher
    Distorted thinking 
    Encourages superstitious power
    Education is pure manure and best
    For life to bloom and give rich harvest
    Happiness and prosperity of society and man
    Education must focus in our mental frame
    An awaken society having peace as fragrance
    Education is the light to drive away ignorance

    Liked by 1 person

  3. ciccilady, had sought an English version of this poem. My humble effort ! I am not sure if this translation of mine carries the ‘feel’ of the original but this is my best effort. (Dr. Nimish can only comment about it, whether it is a near thing or not.)

    Heart of heart is a land so barren
    Worthless without an education
    To know what is auspicious & pure
    Also to know what is worthy for sure  
    Literacy and schooling is the right forum  
    Else
    Darkness rules your Sanctum Sanctorum!

    Illiterate and unschooled 
    Are the ones always fooled
    Not knowing what right they have
    Spending their life in a darkened cave
    Superior-inferior they cannot decipher
    Distorted thinking 
    Encourages superstitious power

    Education is pure manure and best
    For life to bloom and give rich harvest
    Happiness and prosperity of society and man
    Education must focus in our mental frame
    An awaken society having peace as fragrance
    Education is the light to drive away ignorance.
    -R K Karnani

    Like

    1. शुक्रिया दोस्त आप अब मुझको मेरी ही याद दिला रहे ☺ अपमान का घूंट पी कर मुस्कुराहट के साथ अपना धर्म निभाना 💜

      साहब sounds ancient isn’t 😂 Nimish is fine…Nimish sounds refreshing cool jolly jolly😅

      Liked by 2 people

  4. बस ऐसे ही लिखते रहिये निमिष जी। सच कहूँ तो इस ब्लॉग से जुड़कर बहुत कुछ सीखने को मिला है। जिंदगी को देखने का नजरिया बदला है। और थोड़ी सी सोच भी बदली है। सबसे जुड़कर मिलकर अच्छा लगा।
    शुक्रिया

    Liked by 2 people

    1. Thanks so much frnd आप तो गायब… हो मई में देखा था आपको लास्ट 😀

      संगठन ऐसे ही बनता ….साहित्य का हो फिर चाहे किटी पार्टी 😂💜☺

      Liked by 1 person

      1. कम लिखती हूँ मगर गायब नही हूँ। बीच मे फोन खराब हो गया था कुछ समय पहले ही नया लिया है और फिर लिखना शुरू कर दिया आपने ही मेरे ब्लॉग नही पढ़े।
        और सच कहूँ तो सबके ब्लॉग पढ़ने के बाद लिखने से डर लगने लगा है अपनी writting तो फालतू लगती है पता नही जो लिखती हूँ वो सबको पसंद भी आता है कि नही।

        Liked by 1 person

      2. ओके चेक करते दोस्त ☺ 100 में से 5 पढते लोग …
        बाकी likes का खेला है …अच्छे पाठकों को तलाशती रहे😀😀 … हमको भी ऐसा लगता अपुनइच बेकार लिखता 😭😭😂😂

        Liked by 1 person

      3. साहित्य का संगठन तो ठीक है । क्योकि पढ़ना पसंद है मुझे फिर चाहे वो कविताएं हो या कहानियां या फिर कोई आर्टिकल।
        हाँ पार्टी मुझे पसंद नही क्योंकि भीड़ मुझे पसंद नही ।
        खामोशियाँ अच्छी लगती है।

        Like

      4. 😀😀😀 हम सीरीयस बात के बीच में जोक्स भी चिपकाते है बहन ☺ comment section me adhiktar tym… लोग पसंद करते हैं 💜

        Liked by 2 people

      5. Sorry भाई अगर आपको मेरी बात बुरी लगी हो। जोक्स मेरे सर के ऊपर से निकल जाते है कुछ ज्यादा ही सिरियस बन्दी हूँ मै ।
        मैने तो बस अपनी बात कही थी।

        और आप हमेशा यूँ ही मुस्कुराते 😄 रहिये हंसते 😀 रहिये और हमे भी हँसाते रहिये।

        हो सकता है आपकी संगती में हम भी लोगो को हँसाना सीख जाए।

        और हाँ मुझे मेरी writting को improve करने की advice please dete रहिये।

        Liked by 1 person

      6. दूसरों को पढिए ☺ उत्कृष्ठ शब्द का इस्तेमाल किजिये … क्लिष्ट शब्दों से बचे 😊

        बसन्त आता नही …लाया जाता है 💜

        Liked by 2 people

    2. @Pankh
      “और सच कहूँ तो सबके ब्लॉग पढ़ने के बाद लिखने से डर लगने लगा है अपनी writting तो फालतू लगती है पता नही जो लिखती हूँ वो सबको पसंद भी आता है कि नही। ” पंख 
      माफी चाहता हूँ ,आपलोगों की बात में दखल देने की घृष्टता कर रहा हूँ |  पंख की बात पढ़ कर रहा नहीं गया | 
      मत अपने को इतना कमती आँक
      बाहर से पहले अपने अंदर झाँक 
      स्वांतः-सुखाय लिख जो मन में आये 
      देख कैसे उड़ेगी  खोल अपने पाँख | 

      Liked by 2 people

      1. Thank you सर ,
        जब इतनी सारी और इतनी अच्छी inspiration’s हो तो फिर डर कैसा कोशिश करूँगी अपनी writting को और बेहतर कर सकूं।
        Thankyou & It’s my pleasure sir की आप पंख से जुड़े।

        Liked by 2 people

    1. ciccilady, not sure if this translation of mine carries the ‘feel’ of the original but this is my best effort. (Dr. Nimish can only comment about it, whether it is a near thing or not.) I can assure you this has the meaning nearly if not exactly. Enjoy.

      Heart of heart is a land so barren
      Worthless without an education
      To know what is auspicious & pure
      Also to know what is worthy for sure  
      Literacy and schooling is the right forum  
      Else
      Darkness rules your Sanctum Sanctorum!

      Illiterate and unschooled 
      Are the ones always fooled
      Not knowing what right they have
      Spending their life in a darkened cave
      Superior-inferior they cannot decipher
      Distorted thinking 
      Encourages superstitious power

      Education is pure manure and best
      For life to bloom and give rich harvest
      Happiness and prosperity of society and man
      Education must focus in our mental frame
      An awaken society having peace as fragrance
      Education is the light to drive away ignorance.
      -R K Karnani

      Liked by 2 people

      1. Yes …he did it …fantastic person . Our blogging community is so good …with such beautiful minds . I m very happy . Thanks Ilona and Ravindra Dada 🙂

        Lots of love

        Liked by 2 people

      2. Thanks so much. .. hat’s off

        I’m very happy …. thanks for spreading the message of …importance of education ….to the world …earlier my poem was limited to hindi readers only but now with your effort….it has reached the whole world

        Thank so much …Pranaam to you dada 🙂 . Respect and hugs

        Liked by 2 people

    1. बहुत अच्छा लगा आपका कमेन्ट पढ़ कर ☺☺❤❤
      उत्कृष्ट पाठकों की टिप्पणी का इंतजार रहता 😊❤🙏

      Liked by 1 person

  5. बहुत बढ़िया।
    मस्त रहिये
    ब्यस्त रहिये।

    शिक्षा है आधार जगत का,
    बिन शिक्षा क्या सार जगत का,
    वतन प्रेम शिक्षा सिखलाता,
    सही,गलत हमको दिखलाता,
    आओ ज्ञान का दीप जलाएं,
    वतन से अपना नेह बढ़ाएं।

    Liked by 7 people

    1. काव्य रचना समय और सजग वातावरण मांगती ….आजकल दोनों की ही कमी है 😀

      जैसा आप से वादा था अच्छा और बेहतर Dr बनना ❤☺

      शुक्रिया daddu आप सभी को पाकर बहुत खुश हूँ ❤😊🙏

      आपकी प्रतिक्रिया हमेशा मेरी कविताओं पर चार चाँद लगा देती हैं 🙏❤👌👌

      Liked by 2 people

      1. बिल्कुल सही।।।। डॉक्टर और साहित्य का क्या मेल। जबकि यहां दिख रहा है।
        दिल साहित्य से भरा और दिमाग विज्ञान से।
        आप मिले हैं तो हमें दोनों चाहिए आपसे।
        ईश्वर ना करे कि विज्ञान की जरूरत पड़े आपसे मगर साहित्य का प्यासा हूँ। समयाभाव में लिखी पंक्तियाँ भी बेमिशाल हैं।हमें भी कुछ लिखने को प्रेरित करती रहती है। धन्यवाद भाई। बिंदास रहिये।
        यही उम्र है मुस्कुराने की,
        खुद को बनाने की।

        Liked by 5 people

    1. यह आपका प्रेम है भाई 😚😚😚
      करीब एक साल होने वाले इस platform से जुड़े ….कुछ मिला हो या न हो पर — इतना ज्यादा स्नेह, इज्जत, सकारात्मकता, और आप जैसे उत्कृष्ठ अभिव्यक्तियों से मिलकर , जुड़ कर बहुत अच्छा लगा …..सब ईश्वर की कृपा हैं ❤💜🧡💛💙💚

      Liked by 5 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s