सिर्फ शब्दों से नहीं..

सिर्फ शब्दों से नहीं ,

बिना छुए उसे स्पर्श कर..

बिना चूमे उसे चूमकर..

बिना घेरे उसे बाँहों में घेरकर..

.

सूरजमुखी-सा शरमाते हुए…

दूर से उसे पँखुड़ी-पँखुड़ी निहारते हुए…

बिना देखे उसे दृश्य करते हुए…

मैंने उससे कहा… ❤

—Nimish

56370

 

9 thoughts on “सिर्फ शब्दों से नहीं..

  1. क्या बात। बेहतरीन।👌👌

    वो मुस्कुराकर,
    नजरें झुकाकर,
    थोड़ी शरमाकर,
    मंद मंद पवन संग,
    मंद मंद बहा,
    मैंने उससे कहा—

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.