Christmas – Innocence

Innocence once lost can never be found again.

I still remember the day when my parents told me that Santa isn’t real. I was so sad I went to a bar and drank all day.😂😂😂

just for laugh ..stay happy

33 thoughts on “Christmas – Innocence

  1. भाई
    जब हम मासूम थे,
    तो दुख प्रकट करने और रोने के लिए
    जगह ही जगह था।
    अब तो जगह ढूंढने से नही मिलता
    ना ही सांता।
    कल संता भी सच्चा और मैं भी।

    Liked by 2 people

      1. बिल्कुल सही।
        क्षणभंगुर जीवन की कलियाँ
        कल प्रातः को जाने खिले ना खिले,

        Liked by 1 person

      2. तेज़ी से एक दर्द मन में जागा
        मैंने पी लिया
        छोटी सी एक खुशी अधरों में आई
        मैंने उसे फैला दिया,
        मुझको संतोष हुआ
        और लगा
        हर छोटे को बड़ा करना
        धर्म है।

        ~दुष्यंत कुमार

        Like

      3. बहुत खूब।
        वैसे धर्म की व्याख्या आसान नही।

        मेघनाद को ब्रम्हा,विष्णु,महेश के द्वारा दिये हुए सारे दिव्य अस्त्र जब लक्ष्मण को स्पर्श करना तो दूर परिक्रमा कर लौट आये तब उसे आभास हुआ कि ये कोई नर नही बल्कि ईश्वर का अवतार है। फिर अपने पिता को प्रभु राम के सामनेराक्षस जाति के हितार्थ नतमस्तक होने को कहा जिसपर रावण क्रोधित हो उसे घर में छुप जाने को कहा।

        मेघनाद महापराक्रमी योद्धा था।उसे झुकना मंजूर नही फिर भी सत्य बताने पिता के पास आया। और नही मानने पर युद्ध लड़ते लड़ते परमगति को प्राप्त हुआ।

        अब धर्म कहाँ है?

        जहाँ सत्य है वहाँ धर्म है।

        राम ईश्वर के अवतार हैं यही सत्य है फिर भी मेघनाद उनसे युद्ध किया। देखा जाए तो उसने अधर्म का साथ दिया।
        ये अधर्म है।

        मगर यदि पिता को निःसहाय छोड़ राम का शरणागत हो जाता तो भी अधर्मी कहलाता।
        मगर उसने अपना धर्म निभाया।
        न जाने कितने ऐसे योद्धा थे जो जानते हुए कि रावण गलत है,राम के साथ युद्ध कर अपना धर्म निभाया।

        धर्म की परिभाषा आसान नही।

        किसी के नजरों में जो अधर्म है वही किसी के नजरों में धर्म।

        कृष्ण अपने धर्म पर अडिग थे
        और कर्ण भी अपने मित्र धर्म पर।

        Liked by 1 person

      1. i remember each & everything apart from medical science 😂😂

        fix it… i think when u write post … there is “Setting ” option (topmost rightside) > status > more details > comments turn on/ off . 🙂

        in website medium **

        app i don’t know …. 🙂

        gd nt frnd 🙂 .

        Like

      2. this line should be added in our constitution .
        ” All medical students are poets ….but all poets are not medical student ” 😂😂

        Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.