ख़ीर

कभी कभी मै सोचता ये दिनभर दुःख , नकारात्मकता और रोने वाली बातें ही क्यों ढूंढ़ी जाए …अरे भई खुशिया भी तो ढूंढ सकते …खुशिया बना सकते … परोस सकते …क्यों ???☺ 

ख़ीर 😉

माँ का अनुपम प्रखर प्यार ,

गुमसुम हूँ मै ,पढ़ लेती आनन* हर इक राज !

घोर निशा का पहरा , तू..अब न टिक पाएगा ,

माँ हैं ना ,अब हर सितम घुटने टेक जाएगा !!

.

हाँ , माँ को आता हैं खुशियां बनाना ,

हान जी !! सवा किलो के पतीले में खुशियां पकाना !

बस ! थोड़ा सा दुग्ध…मुट्ठी भर बासमती !

धीमी आंच पर पकाना , खुशियां देखो कैसे फिर महकती !!

.

चार लोग की खट-पिट भूल , मिश्रण हो पंचमेवें का ,

लड्डू-गोपाल को भोग लगा ,खुशियां बाहों में भरने का !

तृषित पड़े जो खुशियों से , कभी ख़ीर बनाकर परोसना ,

प्रतिस्पर्धा द्वेष उन्मादों से दूर , कभी प्रांजल बन मुस्कुराना !! 

—Nimish 

आनन -चेहरा

प्रांजल – सौम्य सरल

IMG_20200318_234827

 

44 thoughts on “ख़ीर

    1. Plzz reread the poem…I wrote a Poem अतरंगी दिल for ur birthday …somehow couldn’t post it …

      U have special place here in my heart all my creations are dedicated to people I love admire … It is for u …ख़ीर इज आल योर्स ❤😘✨👙

      Liked by 1 person

      1. I read the poem but not the lines of dedication for me… I just love u Chhote… no one has wished me this way… TYSM… will wait for Atrangi dil… hope u will upload it one day… love u loads…❤🧡💛💚💙💜🖤😍🥳💋

        Liked by 1 person

    1. कविता लिखने के लिए भी पढ़ना पड़ता भाई रोज 2-4 घंटे देता …..मज़ा आता बहुत सारी कविताए लिखी गई कभी पोस्ट नही होती शायद पुस्तक में छपे फिर पढ़ने के लिए मिले😊

      भाई कुछ बड़ा सोचा था वही कर रहा ….promise नहीं भुला हूं …

      बाबा केदारनाथ की जय❤🙏

      Liked by 1 person

      1. कविता लिख। बहुत पढ। यह पढानेवाले चक्कर से दूर हो जा। बस इतना ही।
        बाकी promise तो मैं भूलने भी नहीं दूंगा ।
        पुस्तक तो तूझे मुझे ही dedicate करना है।
        बहुत सारी शुभकामनाएं ।

        Liked by 1 person

  1. आपकी लेखन शैली , और शब्दों की रचना बहुत अच्छी है और कविता का भाव भी । बहुत अच्छे निमिष ऐसे ही लिखते रहो मुझे तुम्हारी सारी कविताएं बहुत पसंद आती है। शुभकानाएं 👍👏😊🌺

    Liked by 4 people

    1. शब्दों के लिए किताबे पढ़ते😊
      अच्छे भाव के लिए कोमल ह्रदय है

      अच्छे दोस्त तुम्हारे जैसे मिलते गए …अच्छी कविताए लिखते गए

      सब तुम लोग करते हम तो छोटा बच्चा है 😍❤✨

      Liked by 2 people

  2. मां को लिखा बहुत जा रहा है कारण मां को महसूस करना बंद कर दिया है। कोई चर्चा में आता है उसके दो कारण है सकारात्मक और नकारात्मक संदर्भ । किन्तु मां की इस समय चर्चा बता रही है कि मां के साथ सबकुछ सही नहीं है वह अपने ही पुत्रों और पुत्रवधुओ द्वारा ठगी जा रही है। यह व्यक्तिगत न होकर सार्वजनिक के लिए है।
    हर बार की तरह निमिष शानदार जानदार जबरदस्त👌👌👌

    Liked by 3 people

    1. Thanks so much bhai❤✨😘

      नकारात्मक संदर्भो को मै तवज्जो ही नहीं देता …अब जो पुत्र पुत्रवधु बुरे नालायक है उनका देखूं सुन्नु ना ना

      हाँ अपना अपने परिवार… चाहने वालो का ख्याल रखूं …प्रेम करु प्रेमिय कविताए लिखूं

      दुनिया में हर तरह के लोग …मै जिस तरह का हूँ… मेरी कोशिस रहेगी उसका प्रचार प्रसार करूँ ….न कि नकारात्मक बाते ढूँढू 😍😍

      कैसे हो कैसा रहा south भ्रमण ? ❤

      Liked by 1 person

      1. बढ़िया है अमेजिंग ,शानदार,जानदार जबरदस्त मीनाक्षी माता मंदिर मदुरै अद्भुत,अकल्पनीय,लाखो तेजोमहालय न्योछावर । संस्कृतिक वैल्यु बहुत है। अब वाली पीढ़ी बहुत तेजी से हिंदी भाषा सीख के पूरे भारत से जुड़ना चाहती है।

        Liked by 1 person

      2. तेजो महालय 😘😊 subarmaniyam swamy जी बोले थे इसपर शिव मंदिर है वह… petition डालेंगे

        जी बहुत बढ़िया भाई ….हम भी जायेंगे parents के साथ जल्द ..❤

        Like

      3. हम तो चेन्नई,बंगलुरू,हम्पी,तिरूपति बालाजी,कंजीपुरम,महाबलीपुरम,त्रिची,श्रीरंगम,तंजौर,मदुरै,रामेश्वरम,धनुष्कोटी,कन्याकुमारी,पद्यमनाभ स्वामी,गुरुवायूर,कालटी आदि शंकराचार्य के गांव फिर कोच्ची से वापस।

        Liked by 1 person

  3. सच में निमिष आपकी कविताएं बहुत कुछ बयां कर जाती है ।

    हर चीज को देखने का एक नया नजरिया दे जाती है।

    बहुत समय बाद आपका ब्लॉग पढ़ रही हूं। समय नही मिल पाता है अब ज्यादा

    पर आप हमेशा ऐसे ही लिखते रहिए।

    Liked by 1 person

  4. बहुत ही खूबसूरत भाई। माँ के साथ किसी भी पल की कोई भी विषय उठाओ—कलम नही थमती।
    कितना खूबसूरत लिखा है ।।।। बहुत बढ़िया।
    आपके पोस्ट को पढ़ मैंने भी एक कविता लिख डाली। प्रस्तुत है आपके लिए।

    दूर चाँद को हमें दिखाती,
    उनको मामा हमें बताती,
    गोद बिठाकर बड़े प्यार से बहलाती थी मोरी माँ,
    भरी कटोरी दूध-भात की याद अभी भी लोरी माँ।
    याद हमें जब रूठ गया मैं,
    कैसे हमें मनाई थी,
    चाँद हमें जब नजर ना आए,
    कैसी कथा बनाई थी,
    मैं तुम में तब डूब गया था,
    चाँद को उस पल भूल गया था,
    भूल गया जिद याद बिछौना,गोद बनी थी तोरी माँ,
    भरी कटोरी दूध-भात की याद अभी भी लोरी माँ।
    भूल भला कैसे सकते हैं,
    तेरी त्याग,तपस्या माँ,
    ममता,करुणा,प्रेम,दया और
    बाहों की वो तकिया माँ,
    खेल-कूद धूल-धूसरित आते,
    दौड़ हमें तुम गोद उठाते,
    अपनी आँचल से माँ मेरे
    तन के सारे धूल उड़ाते,
    मैं हँसता माँ तुम मुस्काती,
    मैं रोता माँ तुम रो जाती,
    कैसे भूल भला सकते हैं सिर पर थपकी तोरी माँ,
    भरी कटोरी दूध-भात की याद अभी भी लोरी माँ।
    याद हमें वो चार मिठाई,
    तेरे हिस्से एक ही आई,
    जब मैं खेलकर घर को आया,
    वो भी तूने हमें खिलाई,
    याद बिना खाए सो जाना,
    हमें खिलाकर तेरा माँ,
    मैं अबोध तब समझ ना पाया,
    हिस्सा कितना मेरा माँ,
    याद हमें जब वो क्षण आते,
    आँखों में आँसू आ जाते,
    आज भरा घर मिष्ठानों से,
    मगर तुक्ष हम सबको पाते,
    कितना तेरा त्याग गिनाऊँ,
    रोम रोम में तुमको पाऊँ,
    रात कई जो जाग बिताई,बात नही ये कोरी माँ,
    भरी कटोरी दूध-भात की याद अभी भी लोरी माँ,
    भरी कटोरी दूध-भात की याद अभी भी लोरी माँ।
    !!!मधुसूदन!!!

    Liked by 1 person

    1. बहुत शुक्रिया दा ❤
      अपना comment box चालू करवाइये …कहिये तो ट्रम्प को फ़ोन लगाऊँ 🙈

      अवध भाषा में कीड़े मकोड़े को कीरौना कहते …हम भी कहेंगे दादा ‘ई किरौना से बच के रहय समझया मरदे ‘ ❤😍😍🙏✨

      बहुत शानदार कविता लिखी है हो सके तो अपने blog में डालो …प्रणाम daddu❤

      Like

      1. ट्रम्प बेबस हैं।
        जो दिखता नही उससे लड़ना मुश्किल।
        ई किरोना ना कोई मिस्टर इंडिया लागता।
        कब कहाँ चल जाई पता नईखे लागत।
        सावधान रहिह बबुआ।

        Liked by 1 person

    1. Thanks so much dost❤✨😊

      हमको भी पसंद खीर पर आजकल मै जिन्दा चमगादड़ का सूप पी रहा बस 😢😭

      Liked by 1 person

    1. Ha सही कहा 😁😘 THAnks so much dost ❤✨😊

      हम भी cooking करेगा आज ….चमगादड़ का सूप …बीस खोपडे का salad😭😭

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.