उलटे पाँव

घर पर बंद पड़ा आदमी ,

निहारता है दीवार, अपने दादा-परदादा की स्मृतियों क़ो ;

सिर पर हाँथ फ़ेर मुस्काता हैं , अपनी प्रेमिका को लिखें पुराने प्रेम पत्र पढ़कर ;

खोज़ निकालता हैं , अपने पुराने खिलौने चीज़-समानों को ;

लजाता हैं , स्वयं की किसी पुरानी तस्वीर देख कर ;

जिंदगी की भागदौड़ में सदैव आगे चलने वाला आदमी ,

घर पर बंद ,

उलटे पाँव चलता हैं !!

—Nimish

Lockdown day 3 / 21

chinese virus मुर्दाबाद 😤 .

ERgRwolXUAAsz5t

 

10 thoughts on “उलटे पाँव

  1. जिंदगी की भागदौड़ में सदैव आगे चलने वाला आदमी ,
    घर पर बंद ।

    एकाएक विराम लगा है, किसी किसी का पूर्णविराम।
    विराम, पूर्णविराम से अच्छा है।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.