प्रेम और स्त्री

प्रेम में पड़ी ,

स्त्री सब कुछ सहती है ;

सींचती हैं प्रेम रुपी पौधें को ,

अपने नेत्रजल से ;

प्रतिपल बचाती है..

निज़ प्रेम को ,

हर व्याध , हर एक अंधड़ से ;

सँजो कर रखती हैैं खुद में उसे ,

मानों कोई कस्तूरी मृग में ;

प्रेम में पड़ी स्त्री बिलकुल ईश्वर बन जाती हैं

.

प्रेम में पड़ा

पुरुष नहीं सह पाता प्रेम भी ☺

—Nimish

Maybe one day I’ll fly next to you

ET_7EdxWkBERmBg

 

20 thoughts on “प्रेम और स्त्री

  1. प्रेम में पड़ी स्त्री बिलकुल ईश्वर बन जाती हैं
    बहुत खूब ।।। बिल्कुल सही कहा।
    .

    प्रेम में पड़ा
    पुरुष नहीं सह पाता प्रेम भी ।

    कैसी बात कर दी। प्रेम हिलोरे मार रहा। वो घर मे कैद है। किसे दूँ! पुलिस मुस्तैद है।

    Liked by 2 people

    1. मै नहीं जा पा रहा पर अपनी रूह उसे सौप दी हैं….

      मिलना बिछड़ना अपने बस में नहीं …क्यों न सिर्फ प्रेम किया जाए❤

      Thanks सो मच दा कैसे हो ? 😊💐

      Liked by 3 people

    1. Im fine friend thanks 😊

      And you too take care of yourself and family …you are in UK I guess …plzz stay home n write wonderful poetries like you always do . ❤✨😊
      Regards

      Liked by 1 person

    1. I am fine brother ….bored coz of lockdown
      Neither does the sunday look like sunday nor does the monday look like monday any more!!

      Thanks so much bhai hope u too staying safe and healthy …..love ✨😊❤

      Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.