प्रतीक्षा

क़ाश ये पल जल्द गुज़रे ,

छटे चांदनी रात , सूर्य पुनः निकले ;

एक-एक क्षण अब अर्सो-सा लगता ,

चंद महीनों का साथ जन्मों-का लगता ;

.

कर हिम्मत कह डाला – हैं प्रेम तुझसे ,

शरमा गई , बोली ‘कल’ बतलाती तुम्हें ;

उसका ‘कल’ मुझे आज से ही व्यग्र रखता हैं ,

उसकी हाँ हो चाहे फिर ना , मेरा ह्रदय प्रतिपल प्रतीक्षा करता रहता हैैं.!!!❤

—-Nimish

तुम्हे पता हैं हमारे बीच कुछ रहे या न रहे , हम साथ हो या न हो!! लेकिन एक चीज़ मैं तुम्हे हमेशा देता रहूंगा…वो सम्मान जिसकी हकदार हो तुम …तुम्हारा आत्मसम्मान सर माथे है मेरे …एक स्त्री को सबसे ज्यादा मान की जरूरत होती है…प्रेम तो फिर भी मिल जाता है इस समाज में पर मान 😃🙌✨EVH81NOXgAEFQwn (1)

11 thoughts on “प्रतीक्षा

    1. Thanks so much Julpha …hope you are good ..stay safe take care😃❤✨🙌

      Poem is about my love …

      English translation

      You know whether there is anything between us or not, we may be together or not !! But one thing I will always give you… respect ,the respect you deserve…

      a woman what needs the most is respect… Love is still available in this society

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.