Subtle Art of Love

Contrast of Liberating the loved One and tying them with the strings of Love. ============================ Label me as yours. Liberate me , call me your own. While I wish you fly wherever your heart desires. For have I loved you truly if I tie the wings of the majestic eagle's enthusiasm that makes who you are. ---Nimish [...]

चीनी चाय पीते हुए (अज्ञेय)

चाय पीते हुए... मैं अपने पिता के बारे में सोच रहा हूँ। आपने कभी चाय पीते हुए पिता के बारे में सोचा है? अच्छी बात नहीं है पिताओं के बारे में सोचना। अपनी कलई खुल जाती है। हम कुछ दूसरे हो सकते थे। पर सोच की कठिनाई यह है कि दिखा देता है कि हम [...]

जरुरी है ??

कभी-कभार मै सोचने लगता हूँ  ...क्या सफल होना जरुरी है ?? श्रेष्ठ बनना अनिवार्य है ??   हाँ या ना , पता नहीं !! पर शिखर तक ना भी पहुंचे हों , पर सशक्त होना जरुरी है ! बातें , मग से हो या न हो , पग धरातल पर जरुरी है ! दुरूहता कितनी भी [...]

ऐसा जीवन जी जाना!!!

जब बसन्त की बहार है तो पतझड़ का क्यों सोचना जब बारिश की धार है तो सूखा मन क्यों रखना जब मिलता मां का साथ है तो विपत्तियों से मत डरना जब पंछी भरे उड़ान है तो सिर झुकाकर मत रहना जब सबका वो ही पालनहार है तो ऊच नीच क्यों करना जब कु कु [...]

दुनिया ‘कुछ’ अजीब सी

हा हा , दुनिया कितनी अजीब सी है , दोस्त..... किसी की मुट्ठी खाली ,तो किसी को रखने की जगह कम है , कोई हिमालय सा शांत-अडिग ,तो कोई आग-बबूला दिनकर सा है । कोई धर्म का ज्ञाता यहाँ ,तो कोई नास्तिक बन मद-मस्त फिरे , कोई प्रेम में ' बुद्ध ' यहाँ ,तो कोई [...]