Promises💕

Promises we have made, Kept, we have none, Why do we have to make, Promises anymore? Remember those magical days, When the promise of togetherness, Held us together, tentatively, Alas! No more! Years just flow by, As water beneath bridges, Gathering speed towards, The great sea of immortality. There you and I, Will rest our […]

Read More Promises💕

जवाबदेही (व्यंग) 👍

आत्म-प्रवंचित बौनो का दरबार सजा हुआ था,उनका सरदार खुश था,हो भी क्यों ना प्रजा तो एक दूसरे पर कीचड़ उछालने में लगी थी,सरदार पर उंगली उठाने वाले या तो सरदार की फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार कर चुके थे या फिर जनहित अस्पताल में अपनी उंगली का इलाज करवा रहे थे।।सरदार की चांदी थी,क्योंकि उसके विरोधी भी […]

Read More जवाबदेही (व्यंग) 👍

Dream💕

Not long ago, in a charming dream, I saw myself – a king with crown’s treasure I was in love with you, it seemed, And heart was beating with a pleasure. There we were dancing wishing it would last forever , And I sang my passion’s song by your enchanting knees. Why, dreams, you didn’t […]

Read More Dream💕

है नमन !!

ओ निष्ठुर,कायर, दहसतगर्दो , सामने से लड़ना तुम क्या जानो ।। ओ जिहाद से उपजे दुरजनो , राम–अली तुम क्या मानो ।। ओ बैठे भीतर जयचंदो , उसका प्रताप तुम क्या जानोगे ।। ओ कपटी ,धूसर , निरलजो , उसका यश , ओज तुम क्या मानोगे ।। हिमालय भी नत मकसत जिसपर , धरती मां […]

Read More है नमन !!

वैलेंटाइन (व्यंग) funny

वेलेंटाइन वीक में ये बात हमेशा उभर कर आती है की एक वर्ग जहां प्यार, मोहब्बत और साथ रहने के वादे करता है,अपने प्यार का इजहार करता है ,प्रेम-प्रसंग में लीन रहता है तो वहीं दूसरी ओर एक और वर्ग को इसी हफ्ते फौज में भर्ती होने की चुल मचती है। देश प्रेम भी आज […]

Read More वैलेंटाइन (व्यंग) funny

संगम

कैसे हुआ ये संगम?? जहन में यही सवाल था, सोच है विपरीत,अलग है विचार, दिशाएं है सार्थक,लक्ष्य एक से ।। है वो एक दूसरे के पूरक , बसंत ऋतु में तितलियों जैसे । है वो एक दूसरे के प्रेरक भी, सारथी बने हो जैसे अर्जुनरथ के ।। आंखो में सपने पनपते रंग बिरंगे, साथ चल […]

Read More संगम