निशा (haiku)

लाशों का ढ़ेर लाशों पर 'मत' खेल सियासी षंडत्व . निशा का तिरपाल मानव कृश बेहाल मृत्यु तांडव . शहर बसाया गाँव को क्यों लौटते भोले पांडव ----Nimish Stop criticizing the lockdown - it maybe because of the lockdown that you're alive to read Dr Pranshu poetries 😂😂 Hallelujah 🌸

जीत का स्वाद

रामायण देख रहे न 😃 देखिये श्री राम चाहते तो एक बाण से समुद्र सूखा देते ...पर उन्होंने ऐसा न कर 400 योजन का सेतु बनाया ...शॉर्टकट से वो मज़ा और वह feelings कहा आती...✨ धन , छल और झूठे स्वांग के बल पर पाई हुई सिद्धि , दान में प्राप्त भूमि सरीखी होती है [...]