आपकी डॉक्टर बेटी !!

दिन रविवार था, एम्स की परीक्षा देकर मैं Noida मेट्रो में सवार दिल्ली लौट रहा था । खुश था...इसीलिए नहीं की exam बढ़िया गया था ,पर इसीलिए की करीब एक साल बाद घर जा रहा था...माँ के पास । सामने की सीट पर एक बुजुर्ग आदमी बैठे थे... कपडे मटमैले से, बाल बिखरे हुए , जूते [...]

Advertisements

सपने होते पूरे✌️

कुछ सपने देखे होते पूरे , कुछ अपने देखे होठों पर मुस्कान लिए। आंखो में नमी,मोतियों सी चमकती हुई , शब्दों में वही सादगी,उदारता और नरमी। गर्व से शीश उठा कर ,अभिवादन स्वीकार करते हुए , अपनी काबिलियत के दम पर सब का विश्वास जीतते हुए। खड़ा हो जैसे विशाल हिमालय,शांत बिल्कुल हिमाद्रि , सुबह [...]