कभी तो तू भी मुझे समझ !!!

और कितना मैं तुझे लिखूं , कभी तो तू भी मुझे समझ ।। मेरी हर नादानियों को तू , इतना मत परख.. मत परख ..इतना मुझे की मै , दूर तुझसे हो जाऊ.. दिल तो दिल कही आँखों से भी , ओझल हो जाऊ.. . कहा-कहा नहीं खोजे थे ?? तूने , इश्क़-प्रेम के मायने [...]

Advertisements