है नमन !!

ओ निष्ठुर,कायर, दहसतगर्दो , सामने से लड़ना तुम क्या जानो ।। ओ जिहाद से उपजे दुरजनो , राम-अली तुम क्या मानो ।। ओ बैठे भीतर जयचंदो , उसका प्रताप तुम क्या जानोगे ।। ओ कपटी ,धूसर , निरलजो , उसका यश , ओज तुम क्या मानोगे ।। हिमालय भी नत मकसत जिसपर , धरती मां [...]

Advertisements

हर कदम साथ✌️

आज मैंने खुद से एक वादा किया है , माफ़ी मांगूंगा तुझसे तुझे रुसवा किया है । हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ-साथ ,कदम से कदम , अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है । हा,हुई जो भूल है , मुझसे जाने अनजाने में , मेरा बचपना ही था , ऐसी भूल करवाने [...]

ये घोड़े पर बैठा दुल्हा गधा है

ये घोड़े पर बैठा दुल्हा गधा है, दहेज़ न लेने की एक विचित्र कथा है; किया था नालायक पर , लाखों ही ख़र्चे, सोचा था, वसुलेगे एक दिन "लड़की" के घर से; बाराती-घराती सभी थे अचंभित, मदरसे से पढ़ा है,या गुरुकुल में शिक्षित; पिता जी का चहेरा उतरा हुआ था, दूल्हा गधा है ये "चर्चित" [...]